दांतो का पीसना (ब्रुक्सिज्म) क्या होता है?
ऐसा देखा गया है कि बहुत से लोग अक्सर अपने दांतों को पीसते हैं। ब्रुक्सिज्म या दांतों का पीसना एक ऐसी परेशानी है जिसमें दोनों जबड़ों के दांत आपस में पिसते या रगड़ खाते हैं।आमतौर पर यह कोई नुकसान नहीं पहुंचाता है, लेकिन जब यह नियमित आधार पर होने लगता है तो दांत ख़राब हो जाते हैं और अन्य मुँह के स्वास्थ्य की परेशानियां पैदा होने लगती हैं।
दांत पीसने के क्या कारण हैं?
वैसे तो तनाव और चिंता के कारण लोग अपने दांत पीसते हैं और यह अक्सर नींद के दौरान होता है। अन्य कारणों में असामान्य तरह से काटने या दांत टूटने या दांत न होना है। यह स्लीप एपनिया जैसे नींद की परेशानी के कारण भी हो सकता है।
आप अपने दांत पीसते हैं, इसका पता कैसे करें
सोकर उठने के बाद धीरे- धीरे होने वाला लगातार सिरदर्द या गले में खराश होना, यह सब दांतों के पीसने या ब्रुक्सिज्म के लक्षण है।अक्सर नींद के दौरान होने के कारण बहुत से लोग इससे अनजान होते हैं। कई बार लोगों को अपने प्रियजन द्वारा रात में दांत पीसने के बारे में पता चलता है ।
यदि आपको लगता है कि आप अपने दांत पीसते हैं, तो अपने डेंटिस्ट को दिखा सकते हैं। वह आपके जबड़े की कोमलता और दांतों पर अत्यधिक घिसाव देखकर ब्रुक्सिज्म की जाँच कर सकता हैं।
दांत पीसना हानिकारक क्यों है?
कुछ मामलों में, पुराने दांत पीसने से दांतों में फ्रैक्चर, ढीलापन या दांतों का नुकसान हो सकता है। पुराने दांतों को पीसने से दांत जड़ से ख़राब हो सकते हैं। ऐसा होने से आपके दांतों को ब्रिज, क्राउन, रूट कैनाल, प्रत्यारोपण, आंशिक डेन्चर और यहां तक कि पूर्ण डेन्चर की ज़रूरत हो सकती है।
ज़्यादा दांत पीसना न केवल दांतों को नुकसान पहुंचा सकता है बल्कि यह आपके जबड़े, टीएमडी / टीएमजे को भी प्रभावित कर सकता है, और यहां तक कि आपके चेहरे की बनावट को भी बदल सकता है।
दांतों के पीसने को रोकने के लिए क्या करें?

दांत पीसने पर अगर रोकथाम न किया गया, तो दांतों को नुकसान पहुँचा सकता है। इसलिए दांत पीसने पर रोकथाम जरूरी है। लेकिन लोगों का अक्सर सवाल रहता है कि दांत पीसना रोकने के लिए क्या करे, कुछ तरीको को जैसे कि शराब के सेवन से बचना, कॉफी में कमी करना, दवाओं का उपयोग करना और दंत चिकित्सक द्वारा बताए गए कुछ अन्य तरीको को अपना कर इस पर रोकथाम हो सकती हैं।

आपका डेंटिस्ट आपको नींद के दौरान दांतों को पीसने से बचाने के लिए आपको माउथ गार्ड फिट कर सकता है।
यदि आप तनाव के कारण दांतों को पीसते है, तो अपने डॉक्टर या डेंटिस्ट से तनाव को कम करने के विकल्पों के बारे में पूछें। तनाव कम करने की काउंसलिंग में भाग लें, थेरेपिस्ट को दिखाएँ या मांसपेशियों के आराम के लिए कुछ व्यायाम शुरू करें।
यदि आप नींद की परेशानी के कारण दांत पीस रहें है, तो इसका इलाज करने से दांत पीसने की आदत कम या खत्म हो सकती है।
दांत पीसने को रोकने के लिए अन्य टिप्स:

  • कैफीन युक्त खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों जैसे कि कोला, चॉकलेट और कॉफी से बचें ।
  • शराब से बचें। शराब पीने के बाद दांतों को पीसने की प्रक्रिया बढ़जाती है।
  • पेंसिल या पेन न चबाएं। चबाने वाली गम से बचें क्योंकि यह आपके जबड़े की मांसपेशियों को क्लिंचिंग बढ़ाता है और दांतों को पीसने की संभावना बढ़ जाती है।
  • आप अपने दांतों को पीसें नहीं इसके बारे में खुद को प्रशिक्षित करें।
  • रात में अपने गाल की तरफ एक गर्म कपड़ा रखने से आपके जबड़े की मांसपेशियों को आराम मिलेगी।

बच्चे अपने दांत क्यों पीसते हैं?
दांत पीसने की समस्या केवल वयस्कों तक ही सीमित नहीं है। लगभग 15% से 33% बच्चे भी अपने दांत पीसते हैं। बच्चों में दांतों का पीसना ज़्यादातर दो बार देखा जाता हैं – एक जब उनके दाँत निकलना शुरू होते हैं और दूसरा जब उनके स्थायी दाँत आते हैं। दांतों के इन दो सेट के पूरी तरह से निकलने के बाद दाँत पीसने की आदत ख़त्म हो जाती हैं।
आमतौर पर, बच्चों में दांत पीसना जगने के बजाय सोने के दौरान देखा जाता हैं। वैसे तो इसके बारे में कोई भी ठीक से नहीं जानता है लेकिन इनमें ठीक से नहीं रखा गया दांत या ऊपरी और निचले दाँतों का सही से न मिलना, बीमारियां और अन्य मेडिकल स्थितियां (जैसे पोषण संबंधी कमियां, पिनवॉर्म, एलर्जी, अंतःस्रावी विकार) और मनोवैज्ञानिक कारक चिंता और तनाव आदि शामिल हैं।
बच्चों के दांत पीसने से वैसे तो कोई समस्या नहीं होती है लेकिन जबड़े का दर्द, सिरदर्द, दांतों का टूटना और टीएमडी हो सकता है। यदि आपके बच्चे के दाँत खराब हैं या दांतों की संवेदनशीलता बढ़ गयी है यादर्द की शिकायत करता है, तो अपने डेंस्टिस्ट से सलाह लें।
बच्चों को दांत पीसने से रोकने में मदद करने के लिए कुछ सुझाव इस प्रकार हैं:

  • अपने बच्चे के तनाव (खासकर सोने से पहले) को कम करें।
  • मांसपेशियों को आराम देने के लिए मालिश और स्ट्रेचिंग व्यायाम कराने की कोशिश करें।
  • आपके बच्चे के आहार में भरपूर मात्रा में पानी शामिल है, यह सुनिश्चित करें। डीहाईड्रेशन के कारण दांत पीसना बढ़ सकता है।
  • यदि आपका बच्चा दांत पीसता है तो अपने डेंटिस्ट को दिखाएँ ।

 बड़े बच्चों को दांतों को पीसने को रोकने के लिए अस्थायी क्राउन या अन्य तरीकों जैसे कि नाइट गार्ड की आवश्यकता हो सकती है।

About Author

Share

One thought on “दांतों का पीसना क्यों होता है

  • Aayushi

    very nicely written. good

Your email address will not be published. Required fields are marked *