जिस प्रकार हमारे शरीर के स्वास्थ्य को अच्छा बनाए रखना महत्वपूर्ण है। उसी प्रकार दांतों की सही देखभाल करना भी व्यक्ति के लिए उतना ही जरुरी है। दांत हमारे शरीर का वो हिस्सा है, जो भोजन को चबाने में हमारी मदद करते है। यदि किसी को दंत स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं परेशान कर रही हैं तो ये उसके लिए परेशानी का विषय है। दांतों में कैविटी का बनना एक आम समस्या है। जो कई लोगों को परेशान करती है। पहले संक्रमित दांतों को निकालना ही इस समस्या का एकमात्र सामान्य समाधान था लेकिन अब इस प्रकार की समस्या से निपटने के लिए कई उपचार व समाधान सामने आए हैं। ऐसी दंत समस्या से निपटने के लिए रूट कैनाल उपचार एक ऐसा उपाय है। जो मरीज़ को राहत पहुँचाता है। बहुत से लोग रूट कैनाल उपचार जानते हैं परन्तु जो लोग नहीं जानते, उन्हें इस उपचार की जानकारी होना आवश्यक है। विशेष रूप से, “रूट कैनाल उपचार” कैसे किया जाता है? इसे समझने से पहले हम निश्चित रूप से इस पर गौर करेंगे।

रूट कैनाल उपचार (Root Canal Treatment) क्या है?

रूट कैनाल रूट कैनाल ट्रीटमेंट एक प्रकार का डेंटल ट्रीटमेंट है। जो संक्रमित दांतों की मरम्मत का कार्य करता है। साथ ही, उन्हें क्षतिग्रस्त होने से बचाता है। इस उपचार की प्रक्रिया के दौरान, नसों और संक्रमित दांत को जड़ से हटा दिया जाता है। फिर दांत की जड़ को साफ़ किया जाता है। इसके बाद, इसमें उपयुक्त भराव सामग्री डाली जाती है। आमतौर पर यह तभी किया जाता है, जब ये महसूस होता है कि दांत में कैविटी जड़ तक पहुँच गई है। जोकि तंत्रिका को भी प्रभावित करती है। ‘रूट कैनाल’ का उपचार में कुछ दर्द होता है। इस उपचार से दांत में थोड़ा दर्द तो होता ही है परन्तु दांत को अंत में उस स्थिति में रहने के लिए बचाएगा। जो कुछ बुनियादी गतिविधियों को करने में मदद करता है।

रूट कैनाल कैसे किया जाता हैं?

रूट कैनाल उपचार के लिए जाने से पहले, संक्रमित दांत का प्रारंभिक मूल्यांकन किया जाता है। इस स्थिति को समझने के बाद, एनेस्थीसिया देकर दांत की जगह को सुन्न कर दिया जाता है। एनेस्थीसिया यह सुनिश्चित करता है कि उपचार के दौरान दर्द कम से कम हो। दांत को सुन्न करने के बाद गुहा सामग्री को निकाल दिया जाता है और संक्रमित लुगदी कक्ष को ठीक से साफ़ किया जाता है। सफ़ाई के बाद, एक उपयुक्त दंत सामग्री भर दी जाती है। दंत सामग्री खाली जगह को भर देगी। फिर क्राउन को दांत पर लगाया जाता है, जहां रूट कैनाल किया जाता है। दांत की सुरक्षा को और अधिक सुनिश्चित करने के लिए ‘रूट कैनाल और क्राउन‘ का कार्य तुरंत किया जाता है।

जब रूट कैनाल उपचार आवश्यक हो जाता है?

आम तौर पर, रूट कैनाल तब महत्वपूर्ण हो जाता है। जब कोई एक या एक से अधिक दांत जड़ तक सड़ जाता है। जिससे आप बाकी के दांतों को सड़नें से बचाने के लिए इस उपचार का सहारा लेते हैं।

रूट कैनाल उपचार करने के कुछ आवश्यक कारण यहां दिए गए हैं:

    1. सूजन: जब आप दांत और आसपास के मसूड़ें में सूजन देखते हैं, तो यह आपके दांतों के लिए समस्या का कारण है। अगर दांत की जड़ संक्रमित हो जाती है तो रूट कैनाल उपचार जल्द से जल्द करना आवश्यक हो जाता है।
    2. ठंड या गर्म के प्रति अधिक संवेदनशीलता: सभी व्यक्तियों के लिए संवेदनशीलता एक सामान्य स्तर है, जब वे किसी ठंडे या गर्म सेवन करते हैं। यदि आप ठंडा या गर्म लेने के बाद अधिक संवेदनशीलता अनुभव करते हैं या दांतों में झनझनाहट को महसूस करते है, तो आपका जल्द ही इलाज कराना आवश्यक है। यह आमतौर पर संक्रमण दांत की जड़ में इस समस्या को इंगित करता है। यहां, दांत को और अधिक सड़नें से बचाने के लिए रूट कैनाल उपचार महत्वपूर्ण हो जाता है।
    3. संक्रमण: जब किसी विशेष जगह के मसूड़ें में लगातार दर्द या संक्रमण होता है, तो यह मसूड़ें की जगह में समस्या का संकेत है। आगे आने वाली जटिलताओं से बचने के लिए रूट कैनाल उपचार करना बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है। रूट कैनाल ट्रीटमेंट से दांतों की संक्रमित जड़ों को साफ़ किया जा सकता है ताकि दांतों के इलाज़ की प्रकिया पर ठीक से काम किया जा सकें। इससे आगे दांत निकालने की संभावनाओं से बचा जा सकता है।
    4. दांत में दर्द:
दांत में दर्द
    दांतों में अत्यधिक दर्द का होना एक आम समस्या है जोकि दांतों के मसूड़ों में अधिक समस्या का संकेत देती है। यहां दर्द आमतौर पर किसी भी क्षण होता है और एक विशिष्ट अवधि के लिए रहता है, फिर चला जाता है। ऐसे में रूट कैनाल उपचार के माध्यम से दांत का इलाज करने की आवश्यकता होती है।
    5. चबाते समय समस्या: यह आमतौर पर देखा जाने वाला लक्षण है। जब दांत संक्रमित होता है, तब भोजन चबाने के दौरान दांत में दर्द महसूस होता है। वैसे दांत में कुछ मौकों पर दर्द दे सकता है। हालांकि, जब आप संक्रमित दांत से चबाने की कोशिश करते हैं तो अत्यधिक दर्द देता है इसलिए इन परिस्थितियों में जल्द ही रूट कैनाल उपचार को अपनाना आवश्यक है।
ये कुछ कारण हैं, जिनसे बचने के लिए आपको रूट कैनाल उपचार के लिए जाना चाहिए। हालांकि उपचार के बाद कुछ दिनों तक कुछ दर्द महसूस होता है, लेकिन फिर राहत मिलेगी इसलिए बेहतर होगा कि इसे जल्द से जल्द किया जाए ताकि आगे दांत खराब न हो। दांत को ठीक से रखने में रूट कैनाल और क्राउन मदद कर सकते हैं। ज्यादातर मामलों में, रूट कैनाल उपचार के माध्यम से दांत को बचाना सुरक्षित पाया जाता है।

डेंटिस्ट की राय:

    जब दांत की जड़ में संक्रमण की बात आती है, तो इसका इलाज जल्द से जल्द करना जरूरी होता है। कई दंत डेंटिस्ट यह मानते हैं कि रूट के संक्रमित होने पर रूट कैनाल उपचार एक बेहतर विकल्प है। रूट कैनाल ट्रीटमेंट पल्प चैंबर को हटाता है और साफ़ करता है। बाद में दांत को सुरक्षित रखने के लिए उचित क्राउन का चुनाव कर उसे दांतों पर लगाया जाता है।

About Author

Share

Your email address will not be published. Required fields are marked *